DA Hike News Today : केंद्रीय कर्मचारियों का महंगाई भत्ता 4% बढ़ा:42% से 46% हुआ

DA Hike News Today : केंद्रीय कर्मचारियों के लिए बुधवार का दिन बड़ी खुशखबरी लेकर आया. नरेंद्र मोदी सरकार ने दिवाली से पहले ही बड़ा तोहफा देते हुए केंद्रीय कर्मचारियों का महंगाई भत्ता 4% बढ़ा:42% से 46% हुआ, 1 जुलाई से मिलेगा; 52 लाख कर्मचारियों और 60 लाख पेंशनर्स को फायदा

दीवाली से पहले केंद्रीय कर्मचारियों को बड़ा तोहफा मिला है. नरेंद्र मोदी कैबिनेट ने केंद्रीय कर्मचारियों के DA में 4% बढ़ोतरी (Central Employees DA Hike) को मंज़ूरी दे दी है. अब केंद्रीय कर्मचारियों का महंगाई भत्ता चार प्रतिशत बढ़ गया है. इसे कर्मचारियों के लिए मोदी सरकार का बड़ा गिफ्ट माना जा रहा है.बढ़े हुए भत्ते के बाद कर्मचारियों का डीए 42 से बढ़कर 46 प्रतिशत हो गया है. 4 प्रतिशत महंगाई भत्ता बढ़ने की उम्मीद पहले से ही जताई जा रही थी लेकिन अब इस फैसले पर मोदी कैबिनेट ने मोहर लगा दी है. आज इसका औपचारिक ऐलान भी किया जा सकता है. केंद्र सरकार के इस फैसले का फायदा देश के करीब 1 लाख केंद्रीय कर्मचारियों और पेंशनर्स को होगा. इसे सरकार के दीवाली गिफ्ट के तौर पर देखा जा रहा है.

 केंद्रीय कर्मचारियों का महंगाई भत्ता (DA) 4 प्रतिशत बढ़ गया हैअब यह 42% से बढ़कर 46% हो गया है। इसका सीधा फायदा करीब 52 लाख केंद्रीय कर्मचारियों और 60 लाख पेंशनर्स को होगा।केंद्रीय कैबिनेट की बुधवार को हुई मीटिंग में इस पर फैसला लिया गया। यह 1 जुलाई से मिलेगा।

क्या होता है महंगाई भत्ता?

महंगाई भत्ता ऐसा पैसा है जो महंगाई बढ़ने के बावजूद सरकारी कर्मचारियों के जीवन स्तर को बनाए रखने के लिये दिया जाता है। यह पैसा सरकारी कर्मचारियों, पब्लिक सेक्टर के कर्मचारियों और पेंशनधारकों को दिया जाता है। महंगाई भत्ता साल में दो बढ़ाया जाता है।

इसका कैलकुलेशन देश की मौजूदा महंगाई के अनुसार हर 6 महीने पर किया जाता है। इसकी गणना संबंधित वेतनमान के आधार पर कर्मचारियों के मूल वेतन के अनुसार की जाती है। महंगाई भत्ता शहरी, अर्ध-शहरी या ग्रामीण क्षेत्र के कर्मचारियों का अलग-अलग हो सकता है।

महंगाई भत्ते का कैलकुलेशन कैसे होता है?

महंगाई भत्ता निर्धारण के लिए एक फॉर्मूला दिया गया है। केंद्र सरकार के कर्मचारियों के लिए ये फॉर्मूला है [(पिछले 12 महीने के ऑल इंडिया कंज्यूमर प्राइस इंडेक्स (AICPI) का औसत – 115.76)/115.76]×100 ।

अब अगर PSU (पब्लिक सेक्टर यूनिट्स) में काम करने वाले लोगों के महंगाई भत्ते की बात की जाए तो इसके कैलकुलेशन का तरीका यह है- महंगाई भत्ता प्रतिशत= (बीते 3 महीनों के उपभोक्ता मूल्य सूचकांक का औसत (बेस ईयर 2001=100)-126.33))x100

ऑल इंडिया कंज्यूमर प्राइस इंडेक्स क्या है?

भारत में दो तरह की महंगाई होती है। एक रिटेल यानी खुदरा और दूसरा थोक महंगाई होती है। रिटेल महंगाई दर आम ग्राहकों की तरफ से दी जाने वाली कीमतों पर आधारित होती है। इसको कंज्यूमर प्राइस इंडेक्स (CPI) भी कहते हैं।

DA के बाद कितना फायदा होगा?

इसके लिए नीचे लिखे फॉर्मूला में अपनी सैलरी भरें..(बेसिक पे + ग्रेड पे) × DA % = DA अमाउंट आसान भाषा में समझें तो बेसिक सैलरी में ग्रेड सैलरी को जोड़ने के बाद जो सैलरी बनती है, उसमे महंगाई भत्ते की दर का गुणा किया जाता है। जो नतीजा आता है, उसे ही महंगाई भत्ता यानी डिअरनेस अलाउंस (DA) कहा जाता है। अब इसे एक उदाहरण से समझते हैं, मान लीजिए आपकी बेसिक सैलरी 10 हजार रुपए और ग्रेड पे 1000 रुपए है।

दोनों को जोड़ने पर टोटल 11 हजार रुपए हुआ। अब बढ़ने वाले 46% महंगाई भत्ते के लिहाज से देखें, तो यह 5,060 रुपए हुआ। सबको जोड़कर आपकी टोटल सैलरी 16,060 रुपए हुई। वहीं 42% DA के लिहाज से आपको 15,620 रुपए सैलरी मिल रही है। यानी 4% DA बढ़ने के बाद हर महीने 420 रुपए का फायदा होगा।

Leave a Comment